Add

Thursday, July 22, 2010

खाइए कसम कि आप एक साल तक बाप नहीं बनेगे- तारकेश्वर गिरी.

कसम खाइए कि इस साल बच्चा पैदा नहीं करेंगे- तारकेश्वर गिरी.

चलिए सभी लोग मिल कर के कसम खाइए कि आज से एक साल तक बच्चा पैदा करने कि बात नहीं करेंगे । खासकरके वो लोग जिनकी शादी इसी साल हुई है या होने वाली , खास कर के वो लोग जिनके पास एक या दो या उस सेअधिक बच्चे हैं। खास कर के वो लोग जिनके पास एक भी बच्चा नहीं है। मतलब कि आज से एल साल तक कोई भी आदमी बाप नहीं बनेगा और न ही कोई महिला माँ बनेगी ।


और एक साल रूक जायेंगे तो क्या फर्क पड़ जायेगा। एक साल बाद आप माँ या बाप बन जाइएगा । मान जाइये मेरी बात मेरे साथ इस अभियान में शामिल हो जाइये।


हमारे देश कि जन्शंख्या बहुत ही तेजी से बढ़ रही है, इतनी तेजी से जितना कि पंजाब में आई बाढ़ , जगह - जगह लोग भूखे मर रहे हैं, लोग आत्महत्या कर रहे हैं। अपनी जरूरतों को पूरी करने के लिए
लोग चोरी- डैकैती और ना जाने कौन - कौन सा अपराध किये जा रहे हैं। जिसे भोजन मिल रहा है वो तो भर पेट खा रहा है, और जिसे नहीं मिल रहा है उसका क्या , बेचारा दिन रात मेहनत करके खाने का जुगाड़ करता रहता है।


मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि आप लोगो मैं से कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं, ऐसा तो हमारे देश कि गरीब जनता कर रही है, इन्टरनेट पर ब्लॉग लिखने वाला और चाट करने वाला गरीब कंहा से होगा।



हमारे देश मैं बहुत से गर्भ निरोधक हथियार पहले से ही मौजूद हैं , उनमे से आप कोई सा भी इस्तेमाल कर के मात्र एक साल तक हमारा साथ दे। में ये तो कभी नहीं कहूँगा कि आप गर्भ में पल रहे बच्चे को मौत दे, लेकिन ये कही सकता हूँ कि ऐसे नौबत ना आने दे।


इस प्रयोग से आने वाले २१ महीने तक कोई बच्चा पैदा नहीं । आज से मेरी विचार धारा को अपने जीवन में अगर आप अमल में लाते हैं तो समझिये कि अपने एक ऐसा उपकार किया है भारत देश पर जैसे कि सेना का जवान देश कि सीमा पर अपनी जान चूका करके करता है


अगर आज से एक साल तक ये प्लानिंग करते हैं तो इस देश में अगले या १० महीने बाद कोई भी बच्चा जन्म नहीं लेगा, और जब एक साल पुरे हो जायेंगे तो भी बच्चे को जन्म लेने में लगभग ९ महीने तो लगेंगे ही। यानि कि आपने अगले २१ महीने तक बढती हुई आबादी पर समजो कि पॉवर ब्रेक लगा दिया।

बाकी भैया आपकी मर्जी ।
हम कही तो सकते हैं ना। आप का हाथ थोड़े पकड़ सकते हैं।

कृपया भारत कि बढती हुई आबादी को रोके।
Post a Comment