Add

Sunday, October 3, 2010

जनता शांत रही और हरामी चिल्लाते रहे- तारकेश्वर गिरी.

पुरे देश कि जनता शांत रही और साले देश के गद्दार हरामी कि औलाद चिल्लाते रहे कि नहीं , हमें ये फैसला मंजूर नहीं हैं, कोई साला कहता हैं कि हम तो सुप्रीम कोर्ट जायेंगे और कोई हरामी कहता हैं कि नहीं ये गलत हैं।
में तो उन हरामीकि औलादों से पूछता हूँ कि तुम लोग थे कंहा जब अयोध्या का मामला कोर्ट में गया था , तुम्हारी गां..........................ड़ में दम था तो पहले क्यों नहीं समझौता करा लिया ।
अब जब पुरे देश के हिन्दू और मुस्लमान भाई शांत हो गये तो सालो अपनी - अपनी रोटी सेकने आ गए।
पुरे भारत वर्ष के हिन्दू और मुसलमानों ने एक आवाज में ये माना कि कोर्ट का फैसला सब मानेगे तो सालो तुम्हारी क्यों फट रही हैं ,
क्या तुम्हे मजा तभी आएगा जब दोनों भाई आपस में लड़ेंगे।
Post a Comment