Add

Saturday, February 20, 2010

हिन्दू कभी भी उग्र नहीं हो सकता

हिन्दू कभी भी उग्र नहीं हो सकता, अगर होता शायद हिंदुस्तान भी एक इसराइल या इराक या इरान या पाकिस्तान या अफगानिस्तान की तरह होता, मगर नहीं ये भारत है, ये वो हिंदुस्तान है जंहा पर ऋषि मुनियों ने जन्म लिया , ये वो भारत है जंहा की मिटटी सिर्फ प्यार की बोली बोलती हैहमारा सनातन धर्म हमें सिखाता है की रिश्तो का मतलब क्या होता हैऔर येही वजह की हमारी संस्कृत और हमारी सभ्यता दुनिया के लिए एक मिशल है

ठाकरे की अपनी कोई जमीन नहीं है , वो तो अपनी जमीन खोज रहा है और वो भी आसमान मैं बैठ कर के , जिसका कोई वजूद नहीं हैठाकरे कोई हिन्दू आंतकवादी नहीं वो तो मानवता का आंतकवादी है वो तो एक घटिया किश्म का राजनेता है

इस्लाम एक तेजी से बढता हुआ धर्म है , इसके मानने वाले ज्यादातर उग्र स्वाभाव के ही लोग हैऔर मुल्ला या मौलाना लोगो ने इसी का फायदा उठाते हुए भोले भाले मुस्लिम नौजवानों को आंतकवाद की आग मैं झोकं रखा हैमुस्लमान अपने आपको को सिर्फ कुरान के हिसाब से ही चलने के लिए विवश करते हैं , वो कुरान के अन्दर कोई तबदीली नहीं करना चाहते , येही उनकी सबसे बड़ी ताकत और सबसे बड़ी कमजोरी भी हैताकत इस लिए की धर्म के नाम पर पूरी दुनिया मैं मुस्लमान खून खराबा करने के लिए तैयार हो जायेंगेइस्लामिक अंतकवाद से पूरी दुनिया परेशान हैंखुद इश्लामिक देश भी
आज इरान ,इराक अफगानिस्तान, पाकिस्तान में रोज इतने बेगुनाह लोग मारे जाते हैं, रोज इन देशो में सैकड़ों औरते विधवा होती हैं तो हजारो बच्चे अनाथ होते हैंआये दिन बम धमाको से पूरी दुनिया परेशान हैंलेकिन इतने के वावजूद भी किसी के ऊपर कोई फर्क नहीं पड़तामौलाना अपनी जगह खड़ा होकर के चिल्ला रहा है तो मुल्ला अपनी जगह




Post a Comment