Add

Sunday, July 5, 2009

मेरी मां

सचमुच मेरी मां महान है जिसने मुझे जनम दिया, आज मैं जो भी हूँ उसी मां की वजह से हूँ, मैं अपनी मां को कैसे धन्यवाद् बोलू मुझे नही पता और न ही मेरी मां मुझसे धन्यवाद् की उम्मीद करती हैं कयोंकि वो मेरी मां हैं ।
मां के कई रूप होते हैं वो बहन के रूप में या भाभी के रूप में या बीबी के रूप में वो कंही न कंही माँ के रूप मैं ही मिलेगी, चाहे वो मेरी बुआ के रूप में हो या मेरी मौसी के रूप में । नारी मतलब मां और उसकी इज्जत करना एक बेटे का फ़र्ज।

लेकिन आज मेरे समाज को ये क्या हो गया है जो मेरी मां को ख़त्म करने पर ही तुला है , आखिर क्या बात है की आज केरल और पोंडिचेरी जैसे छोटे छोटे राज्यों में लड़कियौं की स्थिथि ठीक है और बाकि स्टेट में ख़राब खास करके हरियाणा, दिल्ली और पंजाब में जबकि इन राज्यों में लोगो की आर्थिक स्थिथि बहुत ही आच्छी है
Post a Comment