Add

Saturday, February 7, 2009

नेताजी सावधान ****** जूता आ रहा है

नेताजी सावधान ****** जूता आ रहा है

मेरे देश के बुजुर्ग और बुद्धजीवी नेता गड नमस्कार।

बचपन मैं एक फ़िल्म देखी थी , जिसमे खलनायक अपने एक चमचे, से एक ऑफिसर को पटाने के लिए कहता है की उस ऑफिसर को चाँदी का जूता मारो और फिर भी काम न बने तो उसे सोने का जूता मारो ..काम बनेगा /
लेकिन ये क्या इराक वालों ने तो चमडे के जूते से ही काम काम चलाना चालू कर दिया। जूता और जूता मारने वाला दोनों ही दुनिया मे प्रसिद्ध हो गए । जूता कई लोगो को अमीर बना गया ।
जूते तेरे क्या नखरे

अभी कुछ दिन पहले जूता चीन मैं भी चला और आज उस जूते की तारीफ मैं कुछ कसीदे यूरोप के एक छोटे से देश मैं भी पढ़े गए ।

तो मेरे प्रिय देश के नेताजी और मंत्री महोदय मैं आपको सलाह देना चाहूँगा की पब्लिक तो पब्लिक है कम से कम आप तो सावधान रहे । आगे से अगर आप कभी भी प्रेस मीटिंग रखते है तो कृपया ध्यान से अपने सिक्यूरिटी वालों से कह कर के सभी पत्रकार बंधू लोगो का जूता बाहर ही निकलवा ले , क्या पता कौन किधर से जूता चला दे कौनो भरोसा है आज कल के ज़माने का और तो और चुनाव सर पर है।
Post a Comment