Add

Monday, June 13, 2011

मीडिया और सरकार सदियों से अफवाह फैलाती आ रही हैं

स्वामी रामदेव के आन्दोलन से यह तो ज्ञात हो ही गया हैं कि भारत देश में भ्रस्टाचार बिलकुल नहीं हैं. क्योंकि अगर भारत में भ्रस्टाचार होता तो जनता स्वामी रामदेव के साथ होती. दिल्ली पुलिस के डंडे के डर ने जनता के दिमाग से भ्रस्टाचार नामक कीटाणु को दूर कर दिया.

लेकिन एक बात समझ में नहीं आती, कि समय -समय पर मीडिया भ्रस्टाचार के मुद्दों को प्रमुख खबर क्यों बना देती हैं. बहुत ज्यादे तो नहीं मगर जितना मुझे याद हैं कि लालू प्रसाद यादव , कुछ दिनों जेल में रहने के बाद आज इज्जत पूर्वक चैन कि रोटी खा रहे हैं , मीडिया और सरकार ने बेवजह उन्हें चारा घोटाला , और ना जाने कौन -कौन से घोटाले में बदनाम कर दिया.

राजीव गाँधी का बोफोर्स घोटाला, नरसिंह राव का घोटाला, बूटा सिंह का मामला, जार्ज फर्ना डीज का ताबूत घोटाला, जयललिता के घर से एक हज़ार जोड़ी जुती बरामद करना, मायावती के उपर फर्जी आरोप लगाना कि (यमुना एक्सप्रेसवे और ताज एक्सप्रेसवे ) . आदर्श सोसाइटी घोटाला. दिल्ली में कलमाड़ी , राजा, कनिमोझी को बेवजह तिहाड़ जेल में रखना. और भी ना जाने क्या-क्या .

इतना सब कुछ के बावजूद केंद्र सरकार में कंही घोटाला नहीं होता हैं, भारत कि जनता अपने नेतावो पर आंख बंद कर के भरोसा करती हैं. भारत में अधिकारी हो या चपरासी सब के सब इमानदार हैं, नेता हो मंत्री , ठेली पर सब्जी बेचने वाला हो या बड़े उद्योग घराने सब इमानदार और देश के प्रति सजग और संवेदन शील हैं.

फिर बेवजह मीडिया और विपक्ष अपनी-अपनी रेपो बढ़ाने के लिए हंगामे करता रहता हैं. एक बात और हर भगवा धारी R S S और B J P का मोहरा होता हैं. मुसलमान अपने -आप को इनसे दूर ही रखना चाहता हैं.
Post a Comment