Monday, April 26, 2010

डॉ अनवर जमाल- अब बहुत हो गया.

प्रिय अनवर जमाल जी अब, अब बहुत हो गया । अब बहुत हो गया हिन्दू देवी देवातवो का मजाक। कंही ऐसा न हो की आप के सामने फिर समस्या कड़ी हो जय। मैंने तो पूरी कोशिश की आपको समझाने की लेकिन शायद मैं गलत था ।
हिन्दू इतना भी कमजोर नहीं है की वो अपनी रच्छा भी न कर सके। अगर हिन्दू जाग गया तो उसे शांत करने वाला भी कोई नहीं मिलेगा।
इसलिए अभी मैं , आप से विनम्र निवेदन करता हूँ की आप हिन्दू देवी देवातावो का मजाक उड़ना बंद कर दे। और अगर आप नहीं कर सकते तो ब्लोग्गिं बंद कर दे या । क्योंकि आप के लेख और आपके ब्लॉग पर बेहूदा टिप्पड़िया समाज के लिए घातक हैं।

6 comments:

honesty project democracy said...

इस देश में कानून और व्यवस्था को सुधारने के लिए ,पूरे देश को एक जुट होकर सत्यमेव जयते की रक्षा के लिए, सर पर कफ़न बांधना होगा /ऐसे ही प्रस्तुती और सोच से ब्लॉग की सार्थकता बढ़ेगी / आप देश हित में हमारे ब्लॉग के इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर पधारकर १०० शब्दों में अपना बहुमूल्य विचार भी जरूर व्यक्त करें / विचार और टिप्पणियां ही ब्लॉग की ताकत है / हमने उम्दा विचारों को सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / इस हफ्ते उम्दा विचार के लिए अजित गुप्ता जी सम्मानित की गयी हैं

zeal said...

Tarkeshwar ji-

There is a fine couplet by Jagjeet Singh's ghazal....

"Ek din wo mere aib ginane laga mujhe,
Jab khud hi thak gaya to mujhe sochna pada...."

I also hope they will realize their mistake one day.

Aslam Qasmi said...

क्यों गिरी जी क्या परेशानी हुयी ? जब बलराज मधोक कुरान के खिलाफ लिखते हें तो आप को कौई परेशानी नहीं होती ? अनवर जमाल लिख रहे हें तो आप कानून हाथ मैं लेने की बात कर रहे हें अरे भाई अभिव्यक्ति हर इंसान का अधिकार हे अगर आप को ऐसा कुछ लग रहा हे कि अनवर जमाल त्त्थ्यों के विरुद्ध लिख रहे हें तो न्याय देने के लिए न्यायालय मोजूद हे .

DR. ANWER JAMAL said...

@ अमाँ गिरी ! अभी तो कई दिन से मैंने किसी देवी देवता का नाम तक नहीं लिया , फिर आप पाजामे से बहार क्यूँ हो रहे हो ? कम से कम पोस्ट तो पढ़ लिया करो , या फिर आपको मेरे खिलाफ बकवास लिख कर हॉट होने की चख्खी पड़ गयी है ?
लो एक वोते + में .

Tarkeshwar Giri said...

Miyan Anwar, App apne blog par aa rahi ulti -pulti tippdiyo par dhyan do.

Mera likhane ka matlab yehi hai. blog to pura padha karo yar.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

yahi inki democracy hai giri ji..
sab (exception chhodkar) baaki sab kattar hain aur taalibaani hain.. wo to bhala ho firdaus ka jisane inhe bilkul uchit jawab diya..