Monday, March 8, 2010

जन्म देने वाली मां.

मां पालने वाली भी हो ती है और जन्म देने वाली भीमां तो मां ही होती वो सभी धर्मो से बढ़कर के होती है, हमारे भारतीय समाज मैं औरत को देवी का दर्जा दिया गया है , और देवी या औरत किसी किसी रूप मैं किसी किसी की मां होती है, और मां हमेशा पुजयानिया होती है , मां का स्थान भगवान से भी ऊँचा होता है

हे मां तुझे सलाम, हर उस नारी को सलाम जो इस दुनिया मैं है

2 comments:

Fauziya Reyaz said...

sirf maa ko salamkarne se nahi chalega...uske saath khada rehna padega kyunki ye maa aaj bhi apne dusre rupon mein bahut kamzor hai

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

"माँ" सिर्फ यही कहना काफी है.....