Saturday, August 20, 2011

एक चुटकुला अगेंस्ट भ्रस्टाचार - हँसना बिलकुल मना नहीं है.

एक बार कपिल सिब्बल , दिग्विजय सिंह और चिंदम्बरम हेलीकाप्टर से यात्रा कर रहे थे, सिब्बल ने एक सौ रुपये का नोट निकाला और निचे गिरा के बोला : - मैंने एक गरीब भारतीय को खुश किया. दिग्विजय सिंह ने तुरंत पचास -पचास के दो नोट निकाले और तुरंत नीचे गिरा दिया और कहा की मैंने दो गरीब भारतीय की मदद की.

अब भला चिदंबरम साहेब कैसे चुप बैठे , गृह मंत्री जो ठहरे , उन्होंने तुरंत एक -एक रुपये के सौ सिक्के उठाये और तुरंत नीचे गिरा दिया, और बोले की मैंने सौ गरीब भारतीय परिवार को खुश किया.

पायलट इन तीनो की बाते सुन रहा था , वह हंसा और जोर से बोला की, अगर मैं तुम तीनो को नीचे फेंक दू तो एक सौ पचीस करोड़ भारतीय परिवार खुश हो जायंगे.

PILOT WAS ANNA HAZARE

4 comments:

JAGDISH BALI said...

Superb.

अन्तर सोहिल said...

हा-हा-हा
चुटकुला मजेदार है।

लेकिन आप ये 150 करोड भारतीय परिवार का आंकडा कहां से लाये? डरावना लगता है।

प्रणाम

सञ्जय झा said...

giri bhaijee....ye(chutkula) to him-
giri type ho gaya...........

tapchik mod me.....

pranam.

Tarkeshwar Giri said...

स्पीड को देखते हुए क्या पता कल को २०० करोड़ हो जाएँ.